Sunday, August 21, 2016

सोच को बदलो - Soach ko Badalo

सोच को बदलो - सितारे बदल जाएंगे 
नज़र को बदलो - नज़ारे बदल जाएंगे 
कश्तियाँ बदलने से कुछ भी न होगा 
दिशा बदलो - तो किनारे बदल जाएंगे 


Soach ko Badalo - Sitaare Badal Jayenge 
Nazar ko Badalo - Nazaare  Badal Jayenge 
Kashtiyaan Badalne Se Kuchh Bhi Na Hoga 
Dishaa Badalo - To Kinaare  Badal Jayenge 

         

5 comments:

दर्पण की शिक्षा

पुराने जमाने की बात है। एक गुरुकुल के आचार्य अपने शिष्य की सेवा भावना से बहुत प्रभावित हुए। विद्या पूरी होने के बाद शिष्य को विदा करते समय ...