Friday, December 18, 2015

हयात -फ़क़त बहरे हादसात ही तो है

हयात - फ़क़त बहरे हादसात ही तो है 
मौत ग़मे-ज़ीस्त से निजात ही तो है 

बहते हैं आँख से अगर आँसू तो बहने दे 
बादल से हो या आँख से, बरसात ही तो है 

मायूस है क्यों ऐ दिले बे सबर, इस क़दर 
लम्बी सही ये रात - मगर रात ही तो है

तड़प रहा था दिल किसी के साथ के लिए 
तुझ से मेरा मिलना करामात ही तो है 

न देख किसी ग़रीब को नफ़रत की आँख से 
वो भी आख़िर आदमी की ज़ात ही तो है 

वो है अगर ग़रीब तो उसका है क्या क़सूर 
वो रौंदा -ए  ग़र्दिशे हालात ही तो है 

जैसे कट रही है, काट लो ये ज़िंदगी 
सोचो ज़रा - चार दिन की बात ही तो है 

देखा जब क़रीब से तो 'राजन ' यूँ लगा  
मौत भी क़ुदरत की इक सौग़ात ही तो है 

                                 'राजन सचदेव'  
                                         17 दिसंबर 2015  
                          (on the death of an old acquaintance)
                            

हयात :           Life
फ़क़त :          Just , only
बहरे हादसात : Flow, river of Incidents
ग़मे-ज़ीस्त :   Pains and Sufferings of life
निजात :        Freedom, salvation 
रौंदा-ए ग़र्दिशे हालात : Downtrodden, oppressed by circumstances
 क़ुदरत :        Nature
सौग़ात :       Gift





2 comments:

  1. Very nice. Thanks.

    ReplyDelete
  2. ​Very nicely written poem, Rajan Ji.​
    Vishnu

    ReplyDelete

What We Really Want... And Why

There are three basic fundamental aims or objectives that more or less every living creature wants to achieve. However, these desires or o...