Saturday, March 21, 2015

दौलत की आरज़ू में था बेचैन

दौलत  की आरज़ू में था बेचैन मैं बहुत 
तेरे करम से सबर की दौलत मिली मुझे 

दुश्वार तर था सामना उन मुश्किलात का 
थपकी मिली तुम्हारी तो हिम्मत मिली मुझे 
                                    ' मान सिंह मान '

Daulat kee aarzoo me thaa bechain mai bahut
Tere karam se sabar ki daulat mili mujhe

Dushvaar tar thaa saamanaa un mushkilaat ka
Thapaki mili tumhari to himmat mili mujhe 
                                "Maan Singh Maan"



No comments:

Post a Comment

सहर जब आई Sehar Jab Aayi

सहर जब आई तो लाई उसी चिराग़ की मौत  जो सारी रात तड़पता रहा सहर के लिए  Sehar jab aayi to laayi usi chiraagh ki maut  Jo saari raat tada...