Saturday, February 14, 2015

Manzil

यूँ ही नहीं मिल
​ जाती 
 मंज़िल राही को
एक जूनून सा दिल में जगाना पड़ता है
यूँ ही
​ ​
नहीं बन जाते
​ ​
परिंदो के
​ ​
आशियाने
​उड़ान भर के बार बार, तिनका-तिनका उठाना पड़ता है​

​Yoon hi nahin mil jaati manzil raahi ko
Ek janoon​ sa dil me jagaana padtaa hai
Yoon hi nahin bun jaate Parindon ke aashiyaane
Udaan bhar kr baar baar, Tinakaa Tinakaa uthaana padta hai 

​                      "writer unknown"​
​ ​

No comments:

Post a Comment

सहर जब आई Sehar Jab Aayi

सहर जब आई तो लाई उसी चिराग़ की मौत  जो सारी रात तड़पता रहा सहर के लिए  Sehar jab aayi to laayi usi chiraagh ki maut  Jo saari raat tada...