Monday, February 23, 2015

I am more conscious of my faults

An ill-humored fellow insulted a man 
Who patiently bore it saying: 'O hopeful youth, 
I am worse than thou speakest of me 
For I am more conscious of my faults than thou.'   

                                                     Sheikh Sa'di

No comments:

Post a Comment

दर्पण की शिक्षा

पुराने जमाने की बात है। एक गुरुकुल के आचार्य अपने शिष्य की सेवा भावना से बहुत प्रभावित हुए। विद्या पूरी होने के बाद शिष्य को विदा करते समय ...