Friday, August 4, 2017

ग़लतफ़हमी Galat-Fehami

        Happiness Comes from Within

बिकती है न ख़ुशी कहीं - न कहीं ग़म बिकता है
लोग ग़लतफ़हमी में हैं कि कहीं मरहम बिकता है

Bikti hai na khushi kahin - Na kahin gham biktaa hai
Log ghalat-fehami me hain ki kahin marham biktaa hai


                                                           'Writer: Unknown'




No comments:

Post a Comment

ज़ाहिर है तेरा हाल सब

‘ग़ालिब’ न कर हुज़ूर में तू  अर्ज़  बार बार  ज़ाहिर है  तेरा हाल सब उन पर  कहे बग़ैर