Wednesday, March 9, 2016

जिन्हें फ़िक़र थी कल की Jinhen fiqar thi kal ki

जिन्हें फ़िक़र थी कल की - बेवजह वो रोए रात भर 
'राजन ' जिन्हें यक़ीं था - चैन से वो सोए  रात भर 

Jinhen fiqar thi kal ki,  be-vajah vo roye raat bhar
'Rajan' Jinhen yaqeen tha chain se vo soye raat bhar 



2 comments:

  1. Wonderful ! Amazing ! I understood it !

    David.

    ReplyDelete
  2. How true. But wish it was that easy.

    ReplyDelete

दर्पण की शिक्षा

पुराने जमाने की बात है। एक गुरुकुल के आचार्य अपने शिष्य की सेवा भावना से बहुत प्रभावित हुए। विद्या पूरी होने के बाद शिष्य को विदा करते समय ...