Saturday, March 19, 2016

चाहता तो हूँ कि Chaahtaa to hoon

चाहता तो हूँ कि  ....
हर रोज़ सुबह आपको कोई अनमोल खज़ाना भेजूं
पर मेरे दामन में  'दुआओं 'के सिवा कुछ भी नहीं

Chaahtaa to hoon ki ...........
Har roz subah aap ko koi anmol khazaana bhejoon 
Par mere daaman me Duaaon ke siva kuchh bhi nahin 

No comments:

Post a Comment

हम दुआ लिखते रहे - Hum Duaa Likhtay Rahay

हम दुआ लिखते रहे - वो दग़ा पढ़ते रहे  एक नुक़्ते ने महरम से मुजरिम कर दिया  Hum duaa likhtay rahay - vo daghaa padhtay rahay Ek nuqtay nay...