Saturday, March 19, 2016

चाहता तो हूँ कि Chaahtaa to hoon

चाहता तो हूँ कि  ....
हर रोज़ सुबह आपको कोई अनमोल खज़ाना भेजूं
पर मेरे दामन में  'दुआओं 'के सिवा कुछ भी नहीं

Chaahtaa to hoon ki ...........
Har roz subah aap ko koi anmol khazaana bhejoon 
Par mere daaman me Duaaon ke siva kuchh bhi nahin 

No comments:

Post a Comment

शायरी - चंद शेर Shayeri - Chand Sher (Few Couplets)

न जाने  डूबने वाले ने  क्या कहा  समंदर से  कि लहरें आज तक साहिल पे अपना सर पटकती हैं   Na Jaane doobnay waalay ne k ya kahaa s amander s...