Thursday, March 24, 2016

आईना

दाग़ चेहरे पर लगे थे और हम 
आईना ही साफ़ करते रह गए 
 ~ ~~~~  ~ ~~~~ ~ ~~~~  

आईना जब भी उठाया करो ....... 

किसी और को दिखाने से पहले 
खुद को देखा करो ........
फिर किसी और को दिखाया करो 
 ~ ~~~~ ~ ~~~~   ~ ~~~~ ~ ~ 

जब किसी पे कभी तब्सरा कीजिये 

अपने सामने भी आईना रख लीजिये 
 ~ ~~~~    ~ ~~~~   ~ ~~~~  ~ ~~ 


No comments:

Post a Comment

दर्पण की शिक्षा

पुराने जमाने की बात है। एक गुरुकुल के आचार्य अपने शिष्य की सेवा भावना से बहुत प्रभावित हुए। विद्या पूरी होने के बाद शिष्य को विदा करते समय ...