Friday, October 14, 2016

कोई न सर उठा के चले Koi Na Sar Utha Ke Chalay


निसार मैं तेरी गलियों पे ऐ वतन - कि जहाँ 
चली है रस्म कि कोई न सर उठा के चले 
                                                  ' फैज़ अहमद फैज़ '

Nisaar main teri galiyon pay ae watan, ke jahaan
Chali hai rasm ke koi na sar uthaa kay chalay
                                                          "Faiz Ahmad Faiz"


No comments:

Post a Comment

शायरी - चंद शेर Shayeri - Chand Sher (Few Couplets)

न जाने  डूबने वाले ने  क्या कहा  समंदर से  कि लहरें आज तक साहिल पे अपना सर पटकती हैं   Na Jaane doobnay waalay ne k ya kahaa s amander s...