Wednesday, November 18, 2015

The Terrorists

एक दिन होगी उन्हें भी इन्सानियत की क़दर 
हम दिल में  ये ख़ुशफ़हमी पाले चले गए 
वो हमारी नादानी पे हँसते रहे 'राजन ' 
और बेगुनाहों का गला काटे चले गए 


 "Ek din hogi unhen bhi Insaaniyat ki qadar  
  Hum dil me ye khush-fehami paalay chalay gaye 
  Vo hamaari nadaani pe hanstay rahe 'Rajan'
 Aur Be-gunaahon ka galaa kaatay chalay gaye "

1 comment:

दर्पण की शिक्षा

पुराने जमाने की बात है। एक गुरुकुल के आचार्य अपने शिष्य की सेवा भावना से बहुत प्रभावित हुए। विद्या पूरी होने के बाद शिष्य को विदा करते समय ...