Monday, November 23, 2015

तजुर्बा कच्चा ही रह गया

ज़िन्दगी  की दौड़ में .....
तजुर्बा कच्चा ही रह गया
हम सीख न पाये 'फ़रेब '
और दिल बच्चा ही रह गया ! 

बचपन में …… 
जब, जहाँ चाहा, हंस लेते थे
जब, जहाँ चाहा, रो लेते थे
पर अब मुस्कान को तमीज़ चाहिए
और आंसुओ को तन्हाई !

                  By:  Unknown Author

No comments:

Post a Comment

What We Really Want... And Why

There are three basic fundamental aims or objectives that more or less every living creature wants to achieve. However, these desires or o...