Monday, November 23, 2015

तजुर्बा कच्चा ही रह गया

ज़िन्दगी  की दौड़ में .....
तजुर्बा कच्चा ही रह गया
हम सीख न पाये 'फ़रेब '
और दिल बच्चा ही रह गया ! 

बचपन में …… 
जब, जहाँ चाहा, हंस लेते थे
जब, जहाँ चाहा, रो लेते थे
पर अब मुस्कान को तमीज़ चाहिए
और आंसुओ को तन्हाई !

                  By:  Unknown Author

No comments:

Post a Comment

Be-Matalab Nahin Ye Nazar Kay Ishaaray

Nazar neechee huyi to hayaa ban gayi  Nazar oopar uthi to duaa ban  gayi    Nazar uth ke jhuki to adaa ban  gayi  Nazar jhuk ke uthi to...