Thursday, April 16, 2015

Flies and mosquitoes do not sit on ice

हिमालय पर मक्खियाँ नहीं होतीं
बर्फ के ऊपर मक्खी, मच्छर  इत्यादि कभी नहीं बैठते। 

यदि मन अभिमान की गर्मी से रहित हो कर शीतल हो जाए तो वहाँ भी विकार रुपी मक्खियाँ नहीं ठहर सकतीं। 

ज्ञानी एवं गुरमुख लोगों को अगर ऐसी जगह रहना भी पड़ जाए जहां निंदा रुपी मच्छर कान में झिनझिना रहे हों, तो वे ज्ञान की मच्छरदानी ओढ़ कर सुख - शान्ति की नींद सो जाते हैं।  
                                                                         "राजन सचदेव"



No comments:

Post a Comment

सहर जब आई Sehar Jab Aayi

सहर जब आई तो लाई उसी चिराग़ की मौत  जो सारी रात तड़पता रहा सहर के लिए  Sehar jab aayi to laayi usi chiraagh ki maut  Jo saari raat tada...