Wednesday, November 12, 2014

अक़सर ऐसी घड़ियाँ भी Aqsar aesi ghadiyaan


अक़सर  ऐसी घड़ियाँ  भी  मेरे जीवन में आई हैं 


जो बातें खुद भी ना ​समझीं वो औरों को समझाई हैं 

Aqsar aesi ghadiyaan bhi mere jeevan me aayi hain

jo baaten khud bhi na  ​samjhin​  vo auron ko samjhaai hain


2 comments:

पंद्रह सैनिक और चाय की दुकान

              " जम्मू और काश्मीर के कूपवाड़ा क्षेत्र के एक सैनिक द्वारा सुनाई गयी एक सच्ची कहानी " एक मेजर के नेतृत्व में पंद्र...