Thursday, May 30, 2013

Zindagi kya hai

ज़िन्दगी दो दिन की है
एक दिन आप के हक में, एक दिन आप के खिलाफ
जिस दिन हक में हो, तो मत करना ग़रूर
और
जिस दिन खिलाफ हो तो सबर करना ज़रूर


No comments:

Post a Comment

हम दुआ लिखते रहे - Hum Duaa Likhtay Rahay

हम दुआ लिखते रहे - वो दग़ा पढ़ते रहे  एक नुक़्ते ने महरम से मुजरिम कर दिया  Hum duaa likhtay rahay - vo daghaa padhtay rahay Ek nuqtay nay...