Thursday, May 30, 2013

Maturity


Maturity is when a person hurts you
& you try to understand his situation instead of hurting him back.
 


Kuchh to majbooriyaan rahi hongi
yoon hi koi bevafaa nahin hota


उसकी कुछ मजबूरियाँ रही होंगी
यूं ही कोई बेवफा नहीं होता  




No comments:

Post a Comment

ज़ाहिर है तेरा हाल सब

‘ग़ालिब’ न कर हुज़ूर में तू  अर्ज़  बार बार  ज़ाहिर है  तेरा हाल सब उन पर  कहे बग़ैर