Monday, December 22, 2014


पतझड़ का टुटा पत्ता ही हूँ 
                              अभिशप्त नहीं मैं 

आती जाती ऋतुओं के संग
                       आँख मिचोली खेली मैने 
बसंत, सावन भादों की
                              भर दी झोली मैने
और पतझड़  के संग तो कितनी
                              खेली  होली  मैने  
जीवन के हर प्रहर 
                          हर छण  रस   पिये मैने 
अंकुर से बीज तक 
                    न जाने कितने जीवन सींचे मैने 
टूट कर शाख से  दूर अब 
                              सोचता हूँ। 
नहीं  अभिशप्त नहीं 
                                 कितना तृप्त हूँ मैं 

                                  Written by: 'Dr. Deepa Dixit'

No comments:

Post a Comment

स्कूल के एक पुराने - वृद्ध टीचर

बाहर बारिश हो रही थी, और स्कूल के अन्दर क्लास चल रही थी अचानक टीचर ने बच्चों से पूछा - अगर तुम सभी को 100-100 रुपया दिए जाए तो तुम सब क्य...