Monday, December 22, 2014


पतझड़ का टुटा पत्ता ही हूँ 
                              अभिशप्त नहीं मैं 

आती जाती ऋतुओं के संग
                       आँख मिचोली खेली मैने 
बसंत, सावन भादों की
                              भर दी झोली मैने
और पतझड़  के संग तो कितनी
                              खेली  होली  मैने  
जीवन के हर प्रहर 
                          हर छण  रस   पिये मैने 
अंकुर से बीज तक 
                    न जाने कितने जीवन सींचे मैने 
टूट कर शाख से  दूर अब 
                              सोचता हूँ। 
नहीं  अभिशप्त नहीं 
                                 कितना तृप्त हूँ मैं 

                                  Written by: 'Dr. Deepa Dixit'

No comments:

Post a Comment

Teacher vs Guru

A teacher is a guide on the path A Guru is a pointer to the way A teacher answers your questions A Guru questions your answers A teac...