Monday, December 22, 2014


पतझड़ का टुटा पत्ता ही हूँ 
                              अभिशप्त नहीं मैं 

आती जाती ऋतुओं के संग
                       आँख मिचोली खेली मैने 
बसंत, सावन भादों की
                              भर दी झोली मैने
और पतझड़  के संग तो कितनी
                              खेली  होली  मैने  
जीवन के हर प्रहर 
                          हर छण  रस   पिये मैने 
अंकुर से बीज तक 
                    न जाने कितने जीवन सींचे मैने 
टूट कर शाख से  दूर अब 
                              सोचता हूँ। 
नहीं  अभिशप्त नहीं 
                                 कितना तृप्त हूँ मैं 

                                  Written by: 'Dr. Deepa Dixit'

No comments:

Post a Comment

Life is not a straight journey

Life is not always like a straight journey on a smooth and clear paved road covered with roses. Sometimes it’s a bumpy road with lots of u...