Sunday, February 26, 2017

तब हम कहाँ थे ?

एक बार दो दोस्त घूमते हुए एक महल के पास पहुँच गए....

पहले दोस्त ने उस शानदार महल को देखकर कहा कि जब इनमें रहने वालों की किस्मत लिखी जा रही थी - तब हम कहाँ थे?

दूसरा दोस्त पहले वाले का हाथ पकड़ कर उसे हस्पताल ले गया 
और ICU में पड़े मरीज़ों की तरफ इशारा करते हुए पूछा :

जब इनकी किस्मत लिखी जा रही थी तब हम कहाँ थे??


3 comments:

False Hope is an implausible chain

आशा नाम मनुष्याणां  कदाचिदाश्चर्य श्रृंखला  बद्धा यया प्रधावन्ती  मुक्तास्तिष्ठन्ति पंगुवत  Aasha naama manushyanam kadachidashcharya s...