Friday, February 24, 2017

देता रहेगा ये अंधेरों को रौशनी

दिल से दे दुआ तो भिखारी - अमीर है
मोती न दे सके तो समंदर  - फ़क़ीर है                         

देता रहेगा ये अंधेरों को रौशनी
जब तक तेरे वजूद में रौशन ज़मीर है


Dil se de duaa to bhikhari ameer hai 
Moti na de sakay to samandar faqeer hai 

Detaa rahega ye andheron ko Raushani 
Jab tak mere vajood me raushan zameer hai 


No comments:

Post a Comment

दर्पण की शिक्षा

पुराने जमाने की बात है। एक गुरुकुल के आचार्य अपने शिष्य की सेवा भावना से बहुत प्रभावित हुए। विद्या पूरी होने के बाद शिष्य को विदा करते समय ...