Friday, May 6, 2016

कभी कभी Kabhi kabhi

कभी कभी मैं याद में तेरी यूं  खो जाता हूँ 


मैं नहीं रहता हूँ तब - बस तू हो जाता हूँ 



Kabhi kabhi main yaad me teri yoon kho jata hoon

Main nahin rehta hoon tab - bus Tu ho jata hoon 

No comments:

Post a Comment

दर्पण की शिक्षा

पुराने जमाने की बात है। एक गुरुकुल के आचार्य अपने शिष्य की सेवा भावना से बहुत प्रभावित हुए। विद्या पूरी होने के बाद शिष्य को विदा करते समय ...