Saturday, January 9, 2016

सकूने दिल के लिए कोई सहारा चाहिए

सकूने दिल के लिए कोई सहारा चाहिए 
 डूबती कश्ती को कोई किनारा चाहिए 

माना - सब कुछ हाथ है परवरदिगार के 
 ज़िंदगी पे कुछ तो हक़ हमारा चाहिए 

अपने लोग भी जो साथ छोड़ने लगें 
ऐसे में कहिए - किसे पुकारा चाहिए 

पहुंचना मंज़िल पे मुसाफ़िर का काम है 
 राहबर का तो सिर्फ़ इशारा चाहिए 

जिस रास्ते पे ठोकरें ही ठोकरें मिलीं 
उस रास्ते पे जाना न दोबारा चाहिए

अपनी कोशिशें सिर्फ़ काफ़ी नहीं 'राजन'
मुरशिदे- क़ामिल का भी सहारा चाहिए 

               'राजन सचदेव '
                    22 दिसंबर, 2015 



3 comments:

  1. क्या ख़ूब कहा है आपने जी ..

    ReplyDelete
  2. Wah kya baat hai
    Sudhir

    ReplyDelete

What We Really Want... And Why

There are three basic fundamental aims or objectives that more or less every living creature wants to achieve. However, these desires or o...